IOT Localization, IoT Translation, Need of Translation in IOT

[:en]What is IoT?
Internet of things (IoT) refers to the physical objects containing embedded technology interacting with the physical environment both internally and externally around them. Such products facilitate user with the easy operative mechanism as they can be controlled using the internet. Voice, gesture and similar mechanisms can be implemented to operationalize the product, even some are supported by AI (artificial intelligence) to maintain self-control over the particular area or mechanism.

IoT Localization is essential because human interaction is an important factor with physical devices and it would be easy if the technology could understand different human languages.

Industrial Internet of Thing (IIOT)
The companies working for the IoT product development are adopting an agile mechanism, it helps them to keep implementing the changes and releasing periodic versions. Industrial internet of things refers to all such tech companies.

The biggest barrier they face right now is the operational languages. How to train the products in different languages? To program read and write facilities in IoT still holds a lot of scope for research. Devnagri is working closely to resolve this issue so that the IoT innovation could get a better shape.

Security With IoT
With coming stream of projects under IoT the security concerns have raised as the implementation requires to be on both hardware and software basis. The data requires a separate security layer to be channelized to a particular device depending upon its physical location and rights. The devices too require a hardware encryption so that it becomes difficult for the hackers to target the same in mass product form. It will able to eliminate the hack on all the devices with same functionality. The ID mismatch will trigger a security measure which can track the faulty command system. The security measures are still in alpha mode and the researchers are working to bridge the gap of hardware and software security in open internet resource.

Scope of Translation
From minutest daily usable product to heavy machineries, the applications are innumerable and users need the access to these products in their natal languages in order to have 100% satisfaction. Some examples devoted to this age of IoT evolution are air conditioners, smart TV, vending machines, dishwashers, washing machines, cars, drones, trains etc.

It is stated that 20 billion IoT devices will be available by 2020 for the consumer consumption and the complete market will be worth of approx $300 billion (as per Gartner). Its success will largely depend on the consumers and their adoption to the technology. To ease the transition, translation is the primary requirement. The diversified lingual users can turn this line of product into huge success if only they could interact easily. Translation simplifies the interaction and to train the products, the industries would require a huge amount of experts from different fields with multi-lingual proficiency.

Translation ensures:
– Product reach to the target market
– Enhanced user experience
– Appropriate product usage
– Reviews of product changes according to its usage in an area

Devnagri is aligning with industries and working in IoT sector for the success of such products in India. The transition will take time but it can be smoother with the involvement of AI powered human translation platform – Devnagri. A scenario where a telugu speaker can interact with temperature control mechanism of his home is still hypothetical but it may be possible sooner than we think. Stay connected to know more.[:hi]30 अगस्त, 2018 आईओटी स्थानीयकरण, आईओटी अनुवाद, अनुवाद में आईओटी की आवश्यकता

आईओटी  क्या है?

इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स (आईओटी) भौतिक वस्तुओं को भौतिक वातावरण के साथ आंतरिक तथा बाह्य रूप से अंतःस्थापित  तकनीक को संदर्भित करती है। ऐसे उत्पाद उपयोगकर्ता को आसान ऑपरेटिव तंत्र के साथ सुविधा प्रदान करते हैं क्योंकि उन्हें इंटरनेट का उपयोग करके नियंत्रित किया जा सकता है। आवाज, संकेत और इसी तरह के तंत्र से उत्पाद को कार्यान्वित किया जा सकता है, यहां तक ​​की कुछ को विशेष क्षेत्र या तंत्र पर आत्म-नियंत्रण बनाए रखने के लिए एआई (कृत्रिम बुद्धि) द्वारा समर्थित किया जाता है। स्थानीयकरण के लिए आईओटी आवश्यक है क्योंकि भौतिक उपकरणों के साथ मानव संपर्क एक महत्वपूर्ण कारक है और यह तकनीक आसान होगी यदि तकनीक विभिन्न मानव भाषाओं को समझ सके।

इंडस्ट्रियल इंटरनेट ऑफ़ थिंग (आईआईओटी):

आईओटी उत्पाद विकास के लिए काम कर रही कंपनियां एक चुस्त तंत्र को अपना रही हैं, इससे उन्हें परिवर्तनों को लागू करने और आवधिक संस्करणों को जारी रखने में मदद मिलती है।इंडस्ट्रियल इंटरनेट ऑफ़ थिंग ऐसी सभी तकनीकी कंपनियों को संदर्भित करता है। उनके लिए इस समय सबसे बड़ी बाधा भाषा परिचालन है। विभिन्न भाषाओं में उत्पादों को प्रशिक्षित कैसे करें? आईओटी में सुविधाओं को पढ़ने और लिखने के लिए अभी भी अनुसंधान के लिए बहुत अधिक गुंजाइश है। देवनागरी इस मुद्दे को हल करने के लिए बारीकी से काम कर रही है ताकि आईओटी इनोवेशन को अधिक सरलता से बढ़ावा मिल सके।

आईओटी के साथ सुरक्षा

आईओटी के तहत परियोजनाओं की आने वाली धारा के साथ सुरक्षा चिंताओं को उठाया गया है क्योंकि कार्यान्वयन हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर दोनों आधार पर होना आवश्यक है।डेटा को एक भौतिक स्थान और अधिकारों के आधार पर किसी विशेष डिवाइस पर एक अलग सुरक्षा परत को चैनलीकृत करने की आवश्यकता होती है। उपकरणों को हार्डवेयर एन्क्रिप्शन की भी आवश्यकता होती है ताकि हैकरों के लिए बड़े पैमाने पर उत्पाद रूप में इसे लक्षित करना मुश्किल हो जाता है। यह समान कार्यक्षमता वाले सभी उपकरणों पर हैक को समाप्त  करने में सक्षम होगा।आईडी मिसमैच सुरक्षा उपाय को ट्रिगर करेगा जोकि दोषपूर्ण कमांड सिस्टम को ट्रैक कर सकता है। सुरक्षा उपाय अल्फा मोड में हैं और शोधकर्ता ओपन इंटरनेट संसाधन में हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर सुरक्षा के अंतर को समाप्त करने के लिए काम कर रहे हैं।

अनुवाद का दायरा:

दैनिक उपयोग की वस्तुओं से लेकर बड़े मशीनरी उत्पाद तक एप्लिकेशन असंख्य हैं तथा उपयोगकर्ताओं को 100% संतुष्टि के साथ  इन उत्पादों को स्थानीय भाषाओं में उपलब्ध कराने की आवश्यकता है। आईओटी के इस युग में इसके कुछ उदाहरण एयर कंडीशनर, स्मार्ट टीवी, वाशिंग मशीन, डिशवॉशर, वाशिंग मशीन, कार, ड्रोन, ट्रेन आदि हैं।

एक अध्ययन में कहा गया है कि उपभोक्ता खपत के लिए 2020 तक 20 बिलियन आईओटी डिवाइस उपलब्ध होंगे और पूरा बाजार लगभग 300 अरब डॉलर का होगा (गार्टनर के अनुसार)। इसकी सफलता बड़े पैमाने पर उपभोक्ताओं और प्रौद्योगिकी को अपनाने पर निर्भर करेगी।संचालन को आसान बनाने के लिए, अनुवाद प्राथमिक आवश्यकता है।विविध भाषाई उपयोगकर्ता उत्पाद की इस बाधा को बड़ी सफलता में बदल सकते हैं अगर वे आसानी से उनसे बातचीत कर सकें।अनुवाद बातचीत तथा उत्पाद के विषय में जानने की जिज्ञासा को सरल बनाता है, उद्योगों को बहुभाषी दक्षता वाले विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों की अत्यधिक आवश्यकता होगी।

सुनिश्चित अनुवाद:

– उत्पाद को टारगेट मार्केट तक पहुंचाने के लिए

-उन्नत उपयोगकर्ता अनुभव

-उपयुक्त उत्पाद उपयोग

– किसी क्षेत्र में इसके उपयोग के अनुसार उत्पाद परिवर्तनों की समीक्षा

देवनागरी उद्योगों के साथ जुड़ी है और भारत में ऐसे उत्पादों की सफलता के लिए आईओटी क्षेत्र में काम कर रही है। परिवर्तन में समय लगता है लेकिन यह एआई संचालित मानव अनुवाद मंच – देवनागरी की भागीदारी के साथ किया जा सकता है। एक परिदृश्य जहां एक तेलगू भाषी अपने घर में तापमान नियंत्रण तंत्र के साथ बातचीत कर सकता हैं यह अभी काल्पनिक हो सकता है लेकिन यह जल्दी संभव हो सकता  है। अधिक जानकारी के लिए जुड़े रहें।[:]

Leave a Comment

Devnagri products
© 2022 Devnagri AI Private Limited. All Rights Reserved.
Get in touch
close slider